पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर


हमसे पूछने के बजाय सीएम ख़ुद बताएं क्यों हो रहे हैं उपचुनाव : जयराम ठाकुर
चुनाव के दौरान होशियार को लाभ न मिले इसलिए रोका नंद नाला पुल का निर्माण
देहरा अपने धरतीपुत्र के साथ मज़बूती के साथ खड़ी है
कांग्रेस ने स्थानीय कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की, डॉ राजेश के लगाए आरोप बहुत गंभीर
राहुल गांधी द्वारा सदन में हिंदुओं को हिंसक बोलना दुर्भाग्यपूर्ण

देहरा: पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने विधानसभा उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के देहरा के प्रत्याशी होशियार सिंह के समर्थन में आयोजित जनसभा में कहा कि मुख्यमंत्री सुखविन्दर सिंह सुक्खू हमसे पूछने की बजाय खुद बताएं ये उपचुनाव क्यों हो रहे हैं? क्यों उन्होंने ऐसे हालात पैदा कर दिए कि उनके अपने पार्टी के विधायक ही बगावत पर उतरने को मजबूर हुए। क्यों निर्दलीय विधायक के साथ ज़्यादती की? क्यों उनके परिवार जनों, सहयोगियों, मित्रों, रिश्तेदारों को सत्ता के दम पर प्रताड़ित किया? क्यों निर्दलीय विधेयकों को हर बार सरकार का समर्थन करने के लिए बाध्य किया गया।

क्यों निर्दलीय विधायकों के जनहितकारी कामों को लटकाया गया? क्यों उनके द्वारा उनकी विधानसभा क्षेत्र की समस्याओं को अनसुना किया गया? हज़ारों की संख्या में संस्थान क्यों बंद किए। भाजपा सरकार में देहरा में खोले गए अस्पतालों और स्कूलों को क्यों डेनोटिफाई क्यों किया? आज प्रदेश में हो रहे उपचुनाव मुख्यमंत्री की तानाशाही का नतीजा है, जिसके कारण तीन निर्दलीय विधायकों ने अपनी सदस्यता से त्यागपत्र दिया।

क्योंकि मुख्यमंत्री उनसे बिना शर्त समर्थन लेना चाहते थे। सभी ने डेढ़ साल तक समर्थन किया भी लेकिन जब  कांग्रेस ने राम मंदिर के ख़िलाफ़ मुक़दमा लड़ने वाले बाहरी नेता को राज्यसभा में टिकट दिया तो तीनों निर्दलीय विधायकों ने भाजपा के प्रत्याशी हिमाचल के नेता हर्ष महाजन को समर्थन दिया। इसके बाद से ही वह मुख्यमंत्री के कोपभाजन का शिकार हुए हैं। फ़र्ज़ी मुक़दमों के ज़रिए सिर्फ़ निर्दलीय विधायकों को ही नहीं उनके परिजनों और रिश्तेदारों को भी प्रताड़ित किया गया। अब उनके पास क्या रास्ता बचा था?

नेता प्रतिपक्ष ने कहा की देहरा के लोग देहरा के बेटे के साथ है जो दिन रात देहरा के विकास के लिए कार्यरत है। देहरा में नंदनाला पर पुल के लिये होशियार सिंह ने मुझसे मुख्यमंत्री रहते कई बार कहा। इस पुल से 25 हज़ार से ज़्यादा लोगों को राहत मिलती। भाजपा सरकार में इस पुल को स्वीकृत किया और 11 करोड़ रुपए जारी कर दिए।

जब से निर्दलीय विधायकों ने इस्तीफ़ा दिया है तब से इस पुल का निर्माण कार्य रोक दिया गया है। मुख्यमंत्री को लगता है कि इस पुल के निर्माण का श्रेय होशियार सिंह को मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि जनता सब जानती हैं, होशियार सिंह ने कभी श्रेय लेने के लिए नहीं सुविधा देने के लिए काम किया है। वह आज भी वही कर रहे हैं। देहरा के लोग अपने धरतीपुत्र के साथ हैं। इस बार होशियार सिंह अपनी जीत के पुराने रिकॉर्ड तोड़ेंगे।

जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस ने स्थानीय प्रत्याशी की उपेक्षा की। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने भी यहां से उपचुनाव में लड़ने की इच्छा जताई थी। लेकिन उनके साथ क्या हुआ वह पूरा प्रदेश जानता है। किस तरह से मुख्यमंत्री ने उन्हें अपने आवास में बंधक बनाकर रखा और अपनी बात मनवाई।

इसी तरह की तानाशाही मुख्यमंत्री निर्दलीय विधायकों के साथ भी करते थे। निर्दलीय चुना हुआ प्रतिनिधि उसे चुनने वाली जनता के लिए जवाबदेह होता है सत्ता धारी पार्टी के एजेंडे का नहीं। तीनों निर्दलीय विधायकों के जीतने के बाद कांग्रेस सरकार अतीत की बात हो जाएगी। नेता प्रतिपक्ष ने आज नंदपुर, गुलेर, सकरी, मसरूर और भटेड़ में जनसभा को संबोधित कर होशियार सिंह के लिए समर्थन मांगा।

*राहुल गांधी द्वारा हिंदुओं को हिंसक बोलना दुर्भाग्यपूर्ण*

नेता प्रतिपक्ष ने राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इतनी बड़ी आबादी को लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष द्वारा हिंसक कहना दुर्भाग्यपूर्ण हैं। इस तरह से बहुसंख्यक समाज के प्रति सदन में की गई टिप्पणी शांति और अहिंसा परमोधर्मः की जीवन पद्धति का आचरण करने वाले हिंदू धर्मावलम्बियों का भी अपमान है। कांग्रेस द्वारा इस तरह की टिप्पणी बार-बार की जा रही है।

Scroll to Top