बैजनाथ के राकेश बिष्ठ ने सोने का लॉकेट वापिस कर दिखाई ईमानदारी



किरण राही/पधर (मंडी)।

हिमाचल प्रदेश में अभी भी ईमानदारी की मिशाल जिंदा है इसी का जीता जागता प्रमाण एक बार फिर सिद्ध हुआ है।
उपमंडल पधर के आकाश वर्मा की ज्वैलरी कंही खो गयी थी जो उन्हें आज एक साल बाद फिर वापिस मिल गई है।


नेशनल हाइवे 154 मंडी पठानकोट पर बैजनाथ के पास द हाइवे डिनर फ़ूड ट्रक के नाम से फास्ट फूड की दुकान चलाने वाले राकेश बिष्ट ने ईमानदारी की मिशाल पेश की है।


आकाश वर्मा ने बताया कि एक साल पहले जब में अपने घर पधर से कांगड़ा जा रहा तो हम कुछ खाने के लिए द हाइवे डिनर फ़ूड ट्रक पर रुके तो मेरा सोने का लॉकेट राकेश बिष्ट की दुकान में गिर गया और सोने की चेन गाड़ी में।

जब दूसरी बार एक साल के बाद फिर उसी दुकान में रुके तो दुकान के मालिक राकेश बिष्ट ने पहचाना और कहा कि भाई  आपका कुछ सामान तो नही गिरा है तो मैं हक्का बक्का सा रह गया तो याद आई कि मेरा एक सोने का लॉकेट गिरा है तो राकेश बिष्ट ने बताया कि वह मेरे पास है लेकिन घर पर है 1

और थोड़ा दूर है तो कहा कि जब मैं मंडी की तरफ आऊंगा तो उसको लौटा दूंगा। राकेश बिष्ट रविवार को मंडी गए तो वापसी में उन्होंने आकाश वर्मा को उनका लॉकेट लौटा कर ईमानदारी पेश की है। वही आकाश वर्मा ने राकेश बिष्ट का धन्यवाद किया है और कहा है कि सभी लोगों को ईमानदारी पेश करनी चाहिए। वही राकेश बिष्ट ने ईमानदारी दिखाते हुए मालिक तक खोई हुई चीज पहुंचाई है।

Scroll to Top