कृषक प्रशिक्षण केंद्र सुंदरनगर में दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न



सुंदरनगर, 29 जून 2024।

एचoपीoसीo डीoपीo (फेज-II) जाईका -ओo डीo ऐo, हमीरपुर जिला हमीरपुर द्वारा प्रायोजित  “पोषक अनाजों की खेती के माध्यम से खाद्य विविधीकरण और पोषण सुधार” पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन शनिवार को कृषक प्रशिक्षण केंद्र सुंदरनगर में किया गया।
कार्यक्रम के समन्वयक डॉo भारत भूषण ने बताया कि कार्यक्रम में 29 कृषि अधिकारियों ने भाग लिया। कार्यक्रम में जाईका परियोजना में कार्यरत जिला मंडी, सिरमौर, हमीरपुर, कांगड़ा, चंबा, उना, शिमला ब बिलासपुर से आए हुए कृषि अधिकारियों ने भाग लियाI
प्रशिक्षण के दौरान प्रधानाचार्य, कृषक प्रशिक्षण केंद्र सुंदरनगर डॉo प्राची ने बताया कि जलवायु परिवर्तन की समस्या के परिवेश में पोषक अनाजों की खेती एक अच्छा विकल्प है क्योंकि इन्हें बहुत ही कम पानी की आवश्यकता होती है। साथ ही साथ पोषक अनाज पोषण सुधार में तथा आधुनिकतम जीवन शैली से उत्पन्न होने वाली बीमारियों के प्रबंधन में एक कारगर भोजन हैI


कार्यक्रम में डॉo भारत भूषण व डॉo नरेश द्वारा हिमाचल प्रदेश के महत्वपूर्ण पोषक अनाजों की पहचान और पोषक तत्व के बारे चर्चा की गई I डॉo सतीश गुलेरिया द्वारा हिमाचल प्रदेश में महत्वपूर्ण पोषक अनाजों की वैज्ञानिक विधि द्वारा उत्पादन तकनीक, पोषक अनाजों की प्राथमिक और माध्यमिक प्रसंस्करण बारे चर्चा की गई I


स्टार्टअप उद्यमी यशपाल चंदेल ने पोषक अनाजों के व्यापार एवं विपणन, इसकी आपूर्ति श्रृंखला, कृषि स्टार्टअप का अनुभव सांझा किया।
कृषि बिज्ञान केंद्र सुंदरनगर से डॉo कल्पना आर्य द्वारा पोषक अनाजों से बनाई जाने वाली विभिन्न प्रकार के व्यंजनों को बनाने की विधियाँ सिखाई गई।
साथ ही साथ डॉक्टर हितेन्दर वाइस प्रिंसिपल द्वारा पोषक अनाजों को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयत्नों और विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से अवगत करवायाI


प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान महिलाओं को कृषि व पोषक अनाजों के उत्पादन व संरक्षण की भूमिका पर चर्चा की गई। अतः विकास प्रक्रिया में लैंगिक समानता के उद्देश्य से महिलाओं को मुख्य धारा से जोड़ने पर बल दिया गया I

Scroll to Top