राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मझीण में प्रधानाचार्य सुरेश ठाकुर की अध्यक्षता में किशोर स्वास्थ्य एवं कल्याण दिवस मनाया गया



स्वास्थ्य विभाग की तरफ से खंड स्वास्थ्य शिक्षक सुरेश चंदेल ने किशोरावस्था में होने वाले शारीरिक, मानसिक,सामाजिक और भावनात्मक परिवर्तन के बारे में दी विस्तृत जानकारी


मिलाप कौशल/खुंडियां
उपमंडल ज्वालामुखी के तहत  स्वास्थ्य खंड ज्वालामुखी के खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ संजय बजाज के आदेशानुसार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मझीण के प्रधानाचार्य सुरेश ठाकुर  की अध्यक्षता में  किशोर स्वास्थ्य एवं कल्याण दिवस मनाया गया। इस दिवस पर खंड स्वास्थ्य शिक्षक ज्वालामुखी  सुरेश चन्देल ने स्कूल के बच्चों को किशोरावस्था में होने वाले शारीरिक , मानसिक, सामाजिक और भावनात्मक परिवर्तन  के बारे में विस्तार पूर्वक बताया।

चन्देल ने कहा कि किशोरावस्था संवेदनशील अवस्था होती है इस अवस्था में बच्चा अच्छे की तरफ भी जाता है और बुरे की तरफ भी । उन्होंने कहा कि जो बच्चे अच्छी संगत करते हैं वह उच्च स्थान पर पहुँच जाते हैं और जो बुरी संगत करते हैं वह अपराधी भी बन जाते हैं।

चन्देल ने बताया कि ज्यादातर युवा आज बुरी संगत में जाकर नशे के शिकारी हो रहे हैं  चाहे वह नशा बीड़ी, सिगरेट, शराब,भांग, गुटका ,खैनी , चिट्टा, दवाइयों के माध्यम से, या इंजेक्शन के माध्यम से नशा करने की बात हो आज के 80 प्रतिशत से ज्यादा युवा नशे के चपेट में आ गए है और नशा करने वाले व्यक्तियों को ज्यादातर मुँह का कैंसर, फेफड़ों का कैंसर,लिवर का कैंसर, हृदय रोग अधिक मात्रा में  होता है। उन्होंने बताया कि जो आए दिन अपराध, बलात्कार, दुर्घटनाएं, चोरियां बढ़ रही है वह सब नशे के शिकारी लोग कर रहे है।

क्योंकि नशा करने से उनका दिमाग स्थिर नहीं होता। चन्देल ने बच्चों को  संतुलित आहार लेने की सलाह दी क्योंकि किशोरावस्था में शारीरिक और मानसिक विकास तेजी से होने पर  युवाओं को सन्तुलित भोजन की जरूरत होती है जिसमें विभिन्न प्रकार के पोषक तत्त्व हो। ताकि शारीरिक रूप से स्वास्थ रहे। उन्होंने बताया कि किशोरावस्था मे बच्चे आवश्यकता से कम पोषण लेने  के कारण बच्चे में कुपोषण, कम बजन, खून की कमी अधिक मात्रा में पाई जा रही है।

इस दिवस पर स्कूल  के बच्चों की भाषण प्रतियोगिता भी करवाई गई जिसमें प्रथम स्थान पर आँचल , द्वितीय स्थान पर शुभम व तृतीय स्थान पर कृतिका रही । भाषण प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी प्रतियोगियों को स्वास्थ्य विभाग की तरफ से ईनाम भी दिए गए। इस अवसर पर सीएचओ स्मृति, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता नीलम कुमारी स्कूल के अध्यापक  सुदर्शन, मोहन, रमेश चंद, लीला देवी, सुजीता देवी, सुरेन्द्र, रविन्द्र, मीरा, कुसम, नूतन, बबली, बवीता आशा कार्यकर्ता  शशी बाला, प्रवीण कुमारी, मंगला देवी, लज्जो देवी, इन्दु देवी तथा लगभग 150 बच्चे उपस्थित रहे।

Scroll to Top