भीख नहीं अधिकार मांग रहे हैं ,अपना अधिकार हम लेकर रहेंगे — सुखविंदर सिंह सुक्खू

ब्यूरो।धर्मशाला

नई पेंशन स्कीम के कर्मचारियों ने किया मुख्यमंत्री का गर्मजोशी से स्वागत


-हिमाचल के धर्मशाला में रविवार को नई पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू का गर्मजोशी से स्वागत किया। धर्मशाला के पुलिस ग्राउंड में आयोजित आभार रैली में बड़ी संख्या में एन पी एस कर्मचारी पहुंचे। ओ पी एस बहाल होने की खुशी कर्मचारियों के चेहरे पर साफ तौर पर देखी गई। आभार रैली में मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू के अलावा उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री, विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप पठानिया, कैबिनेट के अधिकांश मंत्री भी पहुंचे थे।

गौरतलब है कि हिमाचल सरकार के ओल्ड पेंशन बहाली के ऐतिहासिक निर्णय से प्रदेश के एक लाख 36 हजार सरकारी कर्मचारियों को सीधा लाभ पहुंचा है। सरकार के निर्णय से लाभान्वित सभी कर्मचारियों का कहना है कि यह आभार रैली मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू और प्रदेश सरकार का धन्यवाद जताने के लिए आयोजित की गई। सरकार के ओपीएस बहाली के निर्णय ने उनका वर्तमान और भविष्य सुरक्षित कर दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम भीख नहीं अधिकार मांग रहे हैं और अपना अधिकार हम लेकर रहेंगे उन्होंने कहा कि मैं सब कर्मचारियों का सेनापति हूं और सब कर्मचारी मेरे सैनिक हैं । हम सबको मिलकर केंद्र के पास एनपीएस में जमा 9245 करोड रुपए की राशि वापस लेने को मिलकर लड़ाई लड़नी होगी ।

इसके लिए हमें चाहे दिल्ली कूच करना पड़े तो भी हम करेंगे । उन्होंने कहा कि वह सोमवार को फिर दिल्ली जा रहे हैं और केंद्रीय वित्त मंत्री से इस मसले को फिर से उठाएंगे । उन्होंने कहा कि बोर्ड निगम कर्मचारियों को भी ओल्ड पेंशन दी जाएगी और जो कारपोरेशन बच गए हैं उन्हें भी नियम के अनुसार ओल्ड पेंशन दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 6 महीनों में प्रदेश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए लगातार प्रयास जारी है और वह रात के 12 बजे तक काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आगे बढ़ाने के लिए हमने कई कदम उठाए हैं ताकि प्रदेश की वित्तीय हालत में सुधार लाया जा सके।

उप मुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री ने कहा 2024 का चुनाव सभी कर्मचारियों को अपने दिमाग में रखना होगा । क्योंकि कांग्रेस पार्टी ही कर्मचारियों से किए वादों को पूरा कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग दिल्ली जाकर केंद्र सरकार से बार-बार कह रहे हैं कि राज्य के बजट में कटौती की जाए। इस तरह की ओछी राजनीति प्रदेश के साथ की जा रही है। उन्होंने कहा कि हिमाचल के बाद कर्नाटक में भी कांग्रेस ने झंडा बुलंद किया है इस साल पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं इनमें भी कांग्रेस की वापसी तय है।

error: Alert: Content is protected !!