उप-चुनाव की व्यय निगरानी बारे व्यय पर्यवेक्षक की अध्यक्षता में बैठक आयोजित



51-नालागढ़ विधानसभा क्षेत्र के उप-चुनाव के दृष्टिगत आज नालागढ़ में व्यय पर्यवेक्षक डॉ. एन. कार्तिक ने उप-चुनाव व्यय निगरानी बारे सम्बन्धित अधिकारियों व उम्मीदवारों के प्रतिनिधियों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की।
डॉ. एन. कार्तिक ने कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया को निष्पक्ष व पारदर्शी बनाने के लिए व्यय पर निगरानी अत्यंत महत्वपूर्ण है, ताकि किसी भी प्रकार का दुरुपयोग चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित न कर सके।


उन्होंने उम्मीदवारों के प्रतिनिधियों से प्रतिदिन के व्यय और उसके बिलो की प्रविष्टियां दर्ज करने को भी कहा। 


व्यय पर्यवेक्षक ने उम्मीदवारों के व्यय रजिस्टर, इन्वॉइस   व बिलों का पूर्ण रूप से निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पाई गई त्रुटियों को ठीक करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति उम्मीदवार के व्यय की प्रति रिटर्निंग अधिकारी से आवेदन कर प्राप्त कर सकते हैं। 


उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि उप-चुनाव के दौरान उम्मीदवारों एवं राजनीतिक दलों द्वारा किए जाने वाले चुनावी व्यय पर कड़ी नज़र रखें। उन्होंने कहा कि एक उम्मीदवार के लिए चुनावी व्यय की अधिकतम सीमा 40 लाख रुपए तय की गई है।


रिटर्निंग अधिकारी एवं उपमण्डलाधिकारी (ना.) नालागढ़ दिव्यांशु सिंगल ने कहा कि उम्मीदवारों के व्यय सूचना प्रस्तुत करने के उपरांत त्रुटियां पाए जाने पर तथा बैठक में उम्मीदवारों के प्रतिनिधि की अनुपस्थिति पर नियमानुसार नोटिस जारी कर आवश्यक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।


इस अवसर पर सहायक व्यय पर्यवेक्षक मंगल सिंह तथा विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

Scroll to Top