सफलता में मेहनत और धैर्य दो सबसे महत्वपूर्ण अंग—धर्मानी



अंशुल शर्मा।ब्यूरो।बिलासपुर।

बहु सांस्कृतिक  भवन बिलासपुर में द न्यूज़ रडार मीडिया हाउस द्वारा रविवार को जिला के मेधावियों को सम्मानित करने के लिए शाइनिंग स्टार अवार्ड्स कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में प्रदेश सरकार में टीसीपी, आवास एवं तकनीकी शिक्षा, व्यावसायिक एवं औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री राजेश धर्माणी ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।


इस कार्यक्रम में जिला बिलासपुर के 12 वीं कक्षा में 85 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देखकर नवाजा गया।
कार्यक्रम में मंत्री राजेश धर्मानी मेधावी बच्चों के समक्ष मार्गदर्शक के रूप में सामने आए। उन्होंने कहा कि रोल माडल बनना है तो जीवन में शार्टकट नहीं, चुनौतीपूर्ण रास्ता अपनाना है।

चुनौतियां व्यक्ति को मजबूत बनाती हैं, शार्टकट का रास्ता पतन की ओर ले जाता है। उन्होंने कहा कि सफलता में मेहनत और धैर्य दो सबसे महत्वपूर्ण अंग है। सफलता की राह में आपका आपके परिवार, शिक्षक और समाज के साथ व्यवहार बड़ी पूंजी होती है।


उन्होंने कहा कि कोई भी काम किसी भी क्षेत्र से संबंधित हो उसको करने के ‍लिए सबसे पहले स्वयं की रूचि होनी चाहिए। शार्टकट से सफलता नहीं मिलती। कड़ी मेहनत और लगन से कठिन से कठिन कार्य में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जीवन के सफर में कई कठिन रास्तों से गुजरना पडता है, कई दिक्कतों का सामना करना पडता है ।

पर अगर हम जुनून के साथ उस कार्य को पूरा करने का निश्चय करेंगे तो सफलता अवश्य मिलेगी। उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं की अच्छे अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राएं ही हमेशा सफल हुई है यह देखा गया है कि परीक्षाओं में कम अंक प्राप्त करने वाले बच्चों ने भी अनेक क्षेत्रों में बड़ा नाम कमाया है।


इस अवसर पर एसडीएम सदर अभिषेक कुमार गर्ग ने उपस्थित छात्र-छात्राओं के साथ अपनी संघर्ष की कहानी सांझा की और सभी मेधावियों को निरंतर अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने को कहा।
इस अवसर पर जिला परिषद सदस्य गौरव चौधरी एपीएमसी चेयरमैन बिलासपुर सतपाल, डीएसपी हेडक्वार्टर मदन धीमान, द न्यूज़ रडार मीडिया के एक्जीक्यूटिव एडिटर सुनील चड्डा उपस्थित रहे।

Scroll to Top